नौजवानों को कम ब्याज दर पर कर्जे मुहैया करवाने के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थाओं की लेंगे सेवाएंः कैप्टन - AZAD SOCH नौजवानों को कम ब्याज दर पर कर्जे मुहैया करवाने के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थाओं की लेंगे सेवाएंः कैप्टन - AZAD SOCH

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.

नौजवानों को कम ब्याज दर पर कर्जे मुहैया करवाने के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थाओं की लेंगे सेवाएंः कैप्टन

507
           
REPORTER: JAYANT SINGHI
पटियाला : पंजाब के मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने घोषणा की है कि उनकी सरकार ने नौजवानों को स्टार्टअप प्रोग्राम से जोड़ने आसान शर्तों और कम ब्याज दर पर कर्जे मुहैया करवाने बैंकों व अन्य वित्तीय संस्थाओं की सेवाएं लेने का फैसला किया है।
पी. एच. डी. चैंबर आॅफ कामर्स और इंडस्ट्री के सहयोग से व पंजाब सरकार के उद्योग विभाग की ओर से ’ग्रामीण उद्यम और खोज’ बारे यहाँ सरकारी महेन्दरा कालेज में करवाई जा रही दो दिवसीय संगोष्ठी और प्रदर्शनी को संबोधित करते हुए मुख्य मंत्री ने सरकार के स्टार्टअप प्रोग्राम के अंतर्गत स्वः रोजगार के लिए नौजवानों को उत्साहित करने की जरूरत पर बल दिया।
युवाओं के विचार बदलने की जरूरत का जिक्र करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने नौजवानों में उद्यम का जज्बा पैदा करने के उद्देश्य वाले कार्यक्रमों में पी. एच. डी. चैंबर को सरकार का हिस्सेदार बनने की अपील की। उन्हेंने कहा कि स्टार्टअप केवल एक नौजवान के लिए स्वः रोजगार का साधन नहीं है बल्कि अन्य कई युवाओं को भी नौकरियाँ दिलाने में मददगार होता है।
अपनी सरकार के ’घर घर रोजगार’ प्रोग्राम, जिस के तहत अब तक एक लाख 62 हजार से अधिक नौकरियाँ दी जा चुकी हैं, की सफलता का जिक्र करते हुए मुख्य मंत्री ने राज्य के बेरोजगार नौजवानों के लिए नौकरियों के अथाह अवसर सुनिश्चित करने प्रति अपनी वचनबद्धता दोहराई।
उन्होंने मोहाली में विकसित किए जा रही आई. टी. हब का उदाहरण देते हुए कहा कि यह आई. टी. सेक्टर राज्य के हुनरमंद और बौद्धिक क्षमता वाले नौजवानों के लिए रोजगार का अहम साधन बनेगा। विश्व स्तर पर प्रौद्यौगिकी पक्ष से हुए विकास का जिक्र करते हुए उन्होंने नौजवानों को इस प्रतिस्पर्धा के दौर में बने रहने के लिए नयी तकनीकों का सदैव उपयोग करते रहने व परिचित रहने का संदेश दिया।
अपनी सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम की रूप रेखा को सामने रखते हुए मुख्य मंत्री ने बताया कि इस पहल का उद्देश्य विद्यार्थियों और कम पढ़े लिखे नौजवानों को राज्य भर में चल रही लगभग 200 आई. टी. आई. में विशेष व्यवसायिक प्रशिक्षण मुहैया करवाना है जिससे इन्हें सम्मान के साथ रोटी कमा सकने के योग्य बनाया जा सके।
इस अवसर पर मुख्य मंत्री ने कालेज की प्रिंसिपल डा. संगीता हांडा को सरकारी महेन्दरा कालेज के ढांचागत विकास के लिए दी गई 25 लाख रुपए की अनुदान की प्रशासकीय स्वीकृति का पत्र सौंपा। उल्लेखनीय है कि सरकारी महेन्दरा कालेज को सन 1876 में तत्कालीन महाराजा पटियाला महेन्दर सिंह ने स्थापित किया था।
इस दौरान सेहत और परिवार भलाई मंत्री ब्रह्म महेन्दरा ने बताया कि मैडीकल और पैरा मैडीकल क्षेत्र में रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए उनके विभाग की तरफ से जल्दी ही एक रोजगार मेला लगाया जायेगा। आपेक्षित कौशल प्रशिक्षण मुहैया करवाने और उद्योगों को उत्साहित करने में पी. एच. डी. चैंबर अहम भूमिका निभा सकता है।
तकनीकी शिक्षा, रोजगार उत्पति और कौशल विकास सचिव भावना गर्ग ने कहा कि इस विभाग की तरफ से पटियाला के नौजवानों को प्रशिक्षण देने एक कार्यक्रम पहले ही शुरू किया जा चुका है, जो अन्य जिलों में भी जल्दी शुरू किया जाएगा।
कौशल विकास के महत्व का जिक्र करते हुए पी. एच. डी. सी. सी. आई. के प्रधान अनिल खेतान और पी. एच. डी. सी. सी. आई. इनोवेशन समिति के को-चेयरमैन वी. के. मिश्रा ने भी नौजवानों में उद्यम की भावना पैदा करने ऐसे और कार्यक्रम शुरू करने की आवश्यक्ता पर बल दिया। के. पी. एम. जी के दविन्दर संधू ने उद्योग को पंजाबी युवाओं के कारोबारी हुनर और सख्त मेहनत वाली विरासत को संभालने का आह्वान किया। इस दौरान पी. एच. डी. सी. सी. आई. पंजाब समिति के चेयरमैन आर. एस. सचदेवा और को-चेयरमैन करण गिलहोतरा ने कार्यवाही चलाई और धन्यवाद किया।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *