Tohra Family ने अकाली दाल में शामिल होने के लिए रखी थी बड़ी शर्त Tohra Family ने अकाली दाल में शामिल होने के लिए रखी थी बड़ी शर्त
BREAKING NEWS
Search
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Tohra Family

टोहड़ा परिवार ने अकाली दल में शामिल होने की लिए रखी थी बड़ी शर्त

146

पूर्व कांग्रेसी व आप नेता शरणजीत जोगीपुर भी अकाली दल में शामिल

Patiala . टकसाली लीडरों के अकाली दाल से बहार होने के बाद सुखबीर बदल ( Sukhbir Badal) ने पार्टी को बनाये रखने के लिए पहले से नराज होकर अलग हो चुके पुराने अकाली परिवारों को पार्टी में शामिल करना शुरू क्र दिया है . ऐसी के चलते सुखबीर सिंह बादल ने शनिवार काे पंथ रत्न स्व. गुरचरण सिंह टोहड़ा (Gurcharan Singh Tohra Family) के दामाद हरमेल सिंह टोहड़ा ( Harmail SIngh Tohra), बेटी कुलदीप कौर टोहड़ा (Kuldip Kaur Tohra) और दोहते काे अकाली दाल (AKALI DAL) में शामिल किया है । इस दाैरान खास बात यह रही कि पार्टी में शामिल करने के सवा 2 मिनट बाद ही सुखबीर ने हरमेल सिंह (Harmail SIngh Tohra) को सीनियर उपप्रधान की जिम्मेदारी सौंप दी है । पिछले विधान सभा चुनाव में सनौर (Sanour) सीट से टिकट न मिलने और पटियाला 2 की हलका इंचार्जी छीनने से नाराज होकर 30 अगस्त 2016 को टाेहड़ा परिवार (Tohra Family) ने आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया था। सूत्रों के मुताबिक सुखबीर ने उन्हें सनौर विधानसभा सीट से तैयारी करने का भी इशारा कर दिया है।

सनाैर से टिकट चाहता थी Gurcharan Singh Tohra Family :

टोहड़ा परिवार ( Tohra Family) की घर वापसी को लेकर 6 माह से सुखबीर अौर हरिंदरपाल टोहड़ा संपर्क में थे। इनकी 2 मीटिंग भी हो चुकी थीं। टोहड़ा परिवार (Tohra Family) सनौर से टिकट का भरोसा मांग रहा था, इसलिए देरी हुई। स्व. टोहड़ा के दोहते Harinderpal Tohra ने बताया कि SUkhbir Badal ने वादा किया है कि Tohra Family जहां से टिकट मांगेगा, वहीं से देंगे। चूंकि टोहड़ा परिवार ने शुरू से ही पटियाला टू, घनौर अौर सनौर में होमवर्क किया है, इसलिए इन तीनों सीटों में किसी सीट पर एडजस्ट किया जाना था। घनौर सीट पर उनकी (हरिंदरपाल टोहड़ा की) सास बीबी हरप्रीत कौर मुखमैलपुरा हलका इंचार्ज हैं। हरिंदरपाल चंदूमाजरा को मोहाली सीट पर भेजने अौर उनकी जगह पर टोहड़ा परिवार के किसी सदस्य को मैदान में उतारने की चर्चा है।

सुखबीर कर रहे है टकसालियों की नाराजगी दूर करने की काेशिश :

कई बड़े टकसाली अकाली लीडरों द्वारा अकाली दल छोड़े जाने के बाद टोहड़ा परिवार की वापसी डैमेज कंट्रोल एक्सरसाइज मानी जा रही है। इस बारे में जब सुखबीर बादल से पूछा तो उन्होंने कहा कि वो रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा, रत्न सिंह अजनाला, सेवा सिंह सेखवां की आज भी इज्जत करते हैं । इसलिए इनके बारे में कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। पंथ रत्न गुरचरण सिंह टोहड़ा करीब 27 साल तक लगातार शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान रहे हैं। टोहड़ा परिवार का पटियाला की 3 सीटों पटियाला टू, सनौर , घनौर के अलावा फतेहगढ़ साहिब जिले में प्रभाव है।

शरणजीत जोगीपुर भी अकाली दल में शामिल

पहले कांग्रेस, आप और फिर सुच्चा सिंह छोटेपुर के दल में जाने वाले पुराने लीडर शरणजीत जोगीपुर भी फिर से अकाली बन गए हैं। जोगीपुर घनौर सीट से अपना पंजाब पार्टी की टिकट से विधान सभा चुनाव लड़ चुके हैं। कैप्टन और परनीत कौर के खास रहे जोगीपुर कांग्रेस में कई पदों पर रह चुके हैं।

ALSO READ : AZAD SOCH PUNJABI NEWSPAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *