USA Iran War : अमरीका और ईरान में फिरसे चला शीत युद्ध USA Iran War : अमरीका और ईरान में फिरसे चला शीत युद्ध
BREAKING NEWS
Search
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
USA Iran war

अमरीका और ईरान में फिरसे चला शीत युद्ध

72

Washington . USA President Donald Trump ने Monday को Iran पर और कड़े प्रतिबंध लगाए। अब Iran के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खम्नेई और उनकी सेना के आठ शीर्ष सैन्य कमांडर USA में वित्तीय सुविधाओं का लाभ नहीं ले पाएंगे।

ईरान द्वारा बीते बुधवार को USA जासूसी ड्रोन मार गिराए जाने के बाद ट्रम्प ने यह फैसला लिया। इससे पहले ट्रम्प ने शुक्रवार को ईरान पर हमला करने के भी आदेश दिए थे। लेकिन, 10 मिनट पहले आदेश वापस ले लिया था।

ट्रम्प ने ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन की उपस्थिति में प्रतिबंध लगाने वाले कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए। इस दौरान उन्होंने कहा कि हम ईरान को कभी परमाणु हथियार नहीं बनाने देंगे। हमने अब तक इस मामले में काफी संयम दिखाया, लेकिन आगे ईरान पर दबाव बनाए रखेंगे। जब ट्रम्प से पूछा गया कि क्या यह कदम ईरान के हमले का जवाब है, इस पर उन्होंने हां में जवाब दिया और कहा कि यह तो होना ही था। मैं कुछ ऐसे ईरानियों को जानता हूं, जो न्यूयॉर्क में रहते हैं और अच्छे लोग हैं।

कई बार अमेरिका ने ईरान पर साइबर अटैक किए

एक रिपोर्ट के मुताबिक, USA ने पिछले दिनों ईरान के MCS और जासूसी नेटवर्क पर कई बार साइबर हमले किए।

इससे पहले ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा था- ‘‘ईरान के पास परमाणु हथियार नहीं हो सकते! ओबामा की खतरनाक योजना के तहत वे बहुत ही कम सालों में न्यूक्लियर के रास्ते पर आ गए। अब बगैर जांच के यह स्वीकार्य नहीं होगा। हम सोमवार से ईरान पर बहुत सारे प्रतिबंध लगाने जा रहे हैं। हम उस दिन का इंतजार कर रहे हैं, जब ईरान से प्रतिबंध हट जाएंगे और वह फिर से एक समृद्ध राष्ट्र बन जाएगा।’’

Iran Said- अमेरिका के आगे कभी नहीं झुकेंगे

UNO में Iran के राजदूत माजिद तख्त रवांची ने सोमवार को कहा कि USA जब तक Iran को प्रतिबंधों के दबाव की धमकी देता रहेगा, Iran उसके साथ वार्ता नहीं करेगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम दबाव के आगे झुकने वाले नहीं है। अमेरिका ने एक बार फिर ईरान पर दबाव डाला है। उसने हम पर और प्रतिबंध लगाए हैं। जब तक उसकी यह रणनीति रहेगी तब तक ईरान और अमेरिका के बीच बातचीत नहीं हो सकती।”

‘ईरान पर प्रतिबंध उसकी शत्रुता की ओर इशारा करता है’

रवांची ने कहा कि अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए नए प्रतिबंध पश्चिमी एशियाई देश के प्रति उसकी शत्रुतापूर्ण रवैये को दर्शाता है। अमेरिका का यह फैसला ईरान के लोगों और वहां के नेताओं के प्रति उसकी शत्रुता का प्रतीक है। अमेरिका अंतरराष्ट्रीय कानून-व्यवस्था का सम्मान नहीं करता है।

ALSO READ : AZAD SOCH PUNJABI EPAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *