Income Tax Day : अब नहीं कर सकेंगे आप टैक्स चोरी,सरकार ने किया बड़ा इंतज़ाम Income Tax Day : अब नहीं कर सकेंगे आप टैक्स चोरी,सरकार ने किया बड़ा इंतज़ाम

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Income Tax Day

अब नहीं कर सकेंगे आप टैक्स चोरी , सरकार ने किया यह बड़ा इंतज़ाम

68

NEW DELHI (Azad Soch News): Indian Government में Fiance Minister निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने 24 जुलाई को Income Tax Day पर कर अधिकारियों (Tax Officers) से कहा कि जो लोग ईमानदारी से अपना टैक्स सरकार को दे रहे हैं उनके लिए हर काम में सरलता लाई जाए और टैक्स की चोरी (Tax Theft) करने वाले छोटे और बड़े सभी लोगों से कड़ाई से निपटा जाए ।

ईमानदारी से कर का भुगतान करने वाले लोगों के लिए सभी तरह के काम व: चीजें सरल बनानें में मदद करने का हुकम भी जारी किया गया है ।

वित्त मंत्री (Fiance Minister India) निर्मला सीतारमण ने सभी देश के नागरिकों को अपील करते हुए कहा है कि टैक्स अदा (Tax Pay) करने को सजा के रूप में नहीं बल्कि उनकी तरफ से देश के निर्माण में दिए जाने वाले सहयोग के रूप में देखना चाहिए।

इसके इलावा वित्त मंत्री ( Fiance Minister ) ने कर Tax चोरी करने वालों को पकड़ने के लिए राजस्व विभाग (Revenue Department) की तीनों जांच टीमों से आपस में सूचनाओं को साझा करने को भी कहा।

Tax Department Order : कर आधार को मौजूदा से आगे बढ़ाने के लिये प्रयास किए जाने चाहिए

अधिकारियों को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि कर आधार को मौजूदा से आगे बढ़ाने के लिये प्रयास किए जाने चाहिए। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी चाहते हैं कि कर आधार बढ़ना चाहिये।

उन्होंने यह भी कहा कि 2019-20 के बजट (Budget 2019-20) में प्रत्यक्ष कर संग्रह (Tax Collection 2019) 13.35 लाख करोड़ रुपए रहने का लक्ष्य (Target) रखा गया है जो प्राप्त करने लायक है। कर विभाग (Tax Department) ने पिछले पांच साल में कर संग्रह (Tax Collection) दोगुना किया है।

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, ‘जो व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करते हैं कर अधिकारियों उनपर नजर रखनी होगी … आपके पास आंकड़े हैं, उनका विश्लेषण कर आप वहां पहुंचे जहां गड़बडी हो रही है, और अगर आप उन लोगों के साथ कड़ाई से पेश आते हैं, मैं आपके साथ हूं …।’

उन्होंने यह भी कहा कि अगर करदाता (TAX Payer) कर चोरी नहीं कर रहे हैं, तब कर अधिकारियों की तरफ से उन्हें बेहतर सुविधाओं के साथ अच्छी सेवा मिलनी चाहिए। सीतारमण ने कहा कि राजस्व विभाग की तीनों प्रवर्तन इकाइयां … आयकर, प्रवर्तन निदेशालय और राजस्व खुफिया निदेशालय … को जांच में बेहतर तालमेल के लिये करदाता आधार और उनके बारे में पूरी जानकारी के बारे में सूचना साझी करनी चाहिए।

अधिक कमाई करने वाले व्यक्तियों पर ऊंची दर से कर लगाने को उचित ठहराते हुए वित्त मंत्री Finance Minister ने कहा कि यह सजा के तौर पर नहीं लिया जाता है बल्कि इसके पीछे सोच यह है कि जो अधिक कमाते हैं, वे देश निर्माण में अधिक योगदान कर सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम अधिक कमाई करने वालों को दंडित नहीं कर रहे। हम… आय या संसाधन का बेहतर वितरण करना चाहते हैं और इसके लिये कर संग्रह की जरूरत है।’

सीतारमण ने कहा, ‘देश अधिक कर लेता है क्योंकि हम उन लोगों के बीच इसका वितरण करना चाहते हैं जो अपने लिये उस तरह से कमाई करने में असमर्थ हैं।’ वित्त मंत्री ने 2019-20 के बजट में 2 से 5 करोड़ रुपए की सालाना आय वाले लोगों पर अधिभार 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत तथा 5 करोड़ रुपए से अधिक की कमाई वालों पर 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 37 प्रतिशत कर दिया है।

वित्त मंत्री ( Finance Minister) ने कर अधिकारियों से हालांकि यह भी कहा कि लगातार कर चोरी करने वाले तथा व्यवस्था से खेलने वालों के साथ भी वे संवेदनशीलता के साथ व्यवहार करें। सीतारमण (Sita Raman) ने कहा कि बजट में प्रत्यक्ष कर संग्रह का बहुत आसान लक्ष्य रखा गया है।

पिछले पांच साल में Tax Collection दोगुना, तो इस कुछ भी ज्यादा नहीं

Income Tax day पर उन्होंने कहा, ‘अगर पिछले पांच साल में आप कर संग्रह दोगुना कर सकते हैं, तो इस साल हमने जो लक्ष्य दिया है, वह इस लिहाज से कुछ भी ज्यादा नहीं है। इसलिये 11.8 लाख करोड़ रुपए और 13 लाख करोड़ रुपए के बीच थोड़ा सा ही अंतर है। आपको बड़ा लक्ष्य नहीं दिया गया है … प्रत्यक्ष कराधान से जुड़े लोगों को जो लक्ष्य दिया गया है, वह पूरी तरह प्राप्त करने योग्य है। हम सभी यहां इसे आसान बनाने के लिये हैं…।’

ALSO DOWNLOAD PUNJABI SONG: KHARCHE SONG GURNAM BHULLAR

Income Tax Department के अधिकारियों को ऐसा माहौल बनाना चाहिए, जिसमें आम आदमी के लिए कर का भुगतान करना एक सुखद अनुभव हो। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के चेयरमैन प्रमोद चंद्र मोदी ने बुधवार को यह बात कही।

उन्होंने 159 वें आयकर दिवस के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि कर अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि राजस्व या कर वसूली का काम ‘निष्पक्ष और पारदर्शी’ तरीके से किया जाए।

उन्होंने कहा कि कर विभाग के अधिकारियों ने पिछले कई सालों में सराहनीय काम किया है। प्रत्यक्ष कर संग्रह (Income Tax collection) में वृद्धि के रूप में यह नजर आता है। प्रत्यक्ष कर संग्रह (Direct tax collection) जो कि 1860-61 में 13 लाख रुपए था अब बढ़कर 2018-19 में 11.37 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया। भारत में आयकर 24 जुलाई 1860 को जेम्स विल्सन (James Wilson) द्वारा पहली बार पेश किया गया था। इसी दिन को ‘आयकर दिवस’ (Income Tax Day) के रूप में मनाया जाता है।

कैसे हम अपनी जिम्मेदारियों को अधिक कुशल तरीके से निभा सकते हैं : पीएम मोदी

पीएम मोदी ने Income Tax Day पर कहा, मैं अपने सहयोगियों से आग्रह करना चाहता हूं कि वे इस बात का विश्लेषण और आत्ममंथन करें कि कैसे हम अपनी जिम्मेदारियों को अधिक कुशल एवं प्रभावी तरीके से निभा सकते हैं। राजस्व संग्रह के अपने अहम लक्ष्य को काम करते हुए हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कर संग्रह का काम निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से हो।’

पीए मोदी ने कहा, ‘करदाताओं (Tax Payer) को कर दायित्वों (Tax liabilities) का निर्वहन करने में सुखद अनुभूति होनी चाहिए।’ सहयोगियों को दिए एक अलग संदेश में उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है आप पहले की तरह ही उत्साह , निष्ठा , कर्मठता और समर्पण के साथ काम करना जारी रखेंगे। मुझे भरोसा है कि हम एकसाथ मिलकर इस विभाग को नई ऊंचाइयों पर ले जा सकते हैं।”

ALSO READ : AZAD SOCH PUNJABI EPAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *