Tarn Taran Blast में कौन था निशाने पर, जानिए किस नेता को चाहते थे ख़तम करना Tarn Taran Blast में कौन था निशाने पर, जानिए किस नेता को चाहते थे ख़तम करना
BREAKING NEWS
Search
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Tarn Taran Blast

तरनतारन धमाके में कौन था निशाने पर , जानिए किस नेता को चाहते थे ख़तम करना

35

गिरफ्तार आरोपियों से हुआ खुलासा, पाक आतंकियों से लगातार था संपर्क

Taran Tarn 21 September 2019 (Vishal Ktaria) : Tarn Taran Blast: Taran Tarn में 5 सितंबर को हुए Blast की investigation अब National Investigation Agency (एनआईए) करेगी। Taran Tarn Blast case के Link Pakistan आधारित Sikh For Justice (एसएफजे) से जुड़ने के खुलासे के बाद यह फैसला लिया गया है।

Taran Tarn Blast case में गिरफ्तार मानदीप सिंह उर्फ मस्सा सिंह , मनप्रीत सिंह मन ,हरजीत सिंह, खालसा उर्फ गब्बर सिंह, चानदीप सिंह ,मलकीत सिंह उर्फ शेर सिंह उर्फ शेरा,, अमृतपाल सिंह उर्फ अमृत, अमरजीत सिंह उर्फ अमर और गुरजंट सिंह से पता चला है कि निशाने पर धार्मिक स्थल, सिख धर्म प्रचारक, हिंदू नेता, धार्मिक नेता, राजनीतिज्ञ, पुलिस अधिकारी थे।

Taran tarn धमाके के कई दोषी अभी भी बना रहे बड़ी साजिश

National Investigation Agency की Investigation में पाया गया कि सोढी सिंह अरमेनिया गुरप्रीत सिंह, गुरविंदर सिंह उर्फ प्रिंस (केलेफोर्निया), ), अरविंदर सिंह उर्फ हनी, कुलदीप सिंह, रंजीत सिंह उर्फ बब्बलू (अमेरिका) में रहकर हैं India के खिलाफ बड़ी साजिश रच रहे हैं। Pandori Gola Blast के में मर चुके बिक्रमजीत सिंह IED बनाने का माहिर था। वह 2018 में Australia से Armenia के रास्ते फरार हुआ था।

Pakistan में बैठे आका दे रहे थे पूरी घटना के लिए हुकम

गब्बर उर्फ चानदीप सिंह के संबंध Pakistan बैठे गुर्गे उस्मान से है। चानदीप सिंह केMobile Phone से Pakistan के कई Mobile Number मिले हैं। जिनमें उस्मान का भी नंबर है। गब्बर के मोबाइल से Pakistan औरSikh For Justice के संबंधों के पुख्ता सबूत मिले हैं। गब्बर और उस्मान का लिंक 2018 मे फेसबुक से हुआ था। उस्मान ही कशमीरी जेहादियों की मदद से गब्बर को निर्देश देता था।

ALSO READ: AZAD SOCH PUNJABI EPAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *