महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन , राष्ट्रपति ने कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी दी महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन , राष्ट्रपति ने कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी दी
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Maharashtra President Rules

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन , राष्ट्रपति ने कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी दी

82

राज्यपाल ने केंद्र को बताया – कोई भी दल नहीं सरकार बनाने की स्थिति में

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पहले भाजपा, फिर शिवसेना और आखिर में राकांपा को संख्या बल बताने के लिए बुलाया था

राष्ट्रपति शासन : शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में 2 याचिकाएं दाखिल कीं, कपिल सिब्बल सेना की तरफ से पैरवी कर सकते हैं

Mumbai 12 November 2019 : महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई थी जिसके बाद वहां के राजपाल की सिफार्श पर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कैबिनेट की सिफारिश को मंजूरी दे दी।

राष्ट्रपति शासन को लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में दो याचिकाएं दाखिल कर तत्काल सुनवाई की मांग की है। बताया जा रहा है कि कपिल सिब्बल शिवसेना की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पैरवी कर सकते हैं। लेकिन गृह मंत्रालय के हिसाब से रिपोर्ट आई है कि राज्यपाल का मानना है कि नतीजे सामने आने के 15 दिन बाद भी कोई भी दल सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है। ऐसे में राष्ट्रपति शासन लगाना ही बेहतर विकल्प है।

राज्यपाल ने शिवसेना को नहीं दिया 2 दिन का वक्त

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सबसे पहले सबसे बड़े दल भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दिया था। लेकिन, भाजपा ने सरकार गठन की इच्छा जाहिर नहीं की। इसके बाद शिवसेना को न्योता दिया गया। लेकिन, शिवसेना ने 2 दिन का वक्त मांगा था। राजभवन ने इससे इनकार कर दिया। इसके बाद तीसरे सबसे बड़े दल राकांपा से राज्यपाल ने सरकार बनाने की इच्छा के बारे में जाना । राकांपा ने कहा कि हमें मंगलवार रात 8:30 बजे तक का वक्त सौंपा गया है।

राष्ट्रपति शासन :अब कांग्रेस दिख रही है सरकार बनाने के मूड में

सोमवार को दो बैठकों के दौरान सोनिया ने महाराष्ट्र विधायकों से सरकार बनाने पर उनकी राय मांगी थी और साथ ही राकांपा से भी चर्चा की। राजनीतक सूत्रों का कहना है कि अब कांग्रेस की दिलचस्पी महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बढ़ती जा रही है। मंगलवार को हुई कांग्रेस की बैठक में सरकार बनाने को लेकर ही चर्चा हुई। इसके बाद सोनिया गांधी ने केसी वेणुगोपाल, मल्लिकार्जुन खड़गे और अहमद पटेल को राकांपा के साथ समन्वय का जिम्मा सौंपा है। वेणुगोपाल ने बताया कि हम सभी राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से मिलने मुंबई रवाना हो रहे हैं। सत्ता गठन को लेकर फैसला सोनिया और पवार की बातचीत के बाद ही होगा।

राकांपा नेता अजित पवार ने मंगलवार को कहा कि हमने (राकांपा और कांग्रेस) साथ-साथ चुनाव लड़ा है, इसलिए सरकार बनाने का फैसला हम अकेले नहीं ले सकते।
उन्होंने कहा- कल 10 बजे से शाम 7 बजे तक हम उनके पत्र की राह देखते रहे, लेकिन शाम तक वह नहीं मिला। हमारा अकेले पत्र देना ठीक नहीं था। हमारे पास कुल 98 विधायक हैं। आज शाम को राकांपा और कांग्रेस नेताओं की मुंबई में बैठक होगी।
राष्ट्रपति शासन के सवाल पर अजित ने कहा- अगर हम एक साथ चर्चा कर रहे हैं, तो आगे किसी चीज का कोई सवाल ही नहीं उठता।
शिवसेना को समर्थन के पक्ष में 44 में से 26 कांग्रेस विधायक
News Agency ANI के मुताबिक, महाराष्ट्र कांग्रेस के 44 में से 26 विधायक इस पक्ष में हैं कि शिवसेना को समर्थन दिया जाए। राज्य में राकांपा-शिवसेना और कांग्रेस की सरकार बने। ये 26 विधायक मराठा है। इनके अलावा भी ज्यादातर विधायक इस पक्ष में नहीं हैं कि नए सिरे से चुनाव होंगे ।

ALSO READ: शिव सेना ने क्या कहा था चुनाव के पहले

ALSO READ: ਪਟਿਆਲਾ ਤੋਂ ਸੁਲਤਾਨਪੁਰ ਲੋਧੀ ਲਈ ਸਵੇਰੇ 5 ਵਜੇ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਟਰੇਨ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਰਵਾਨਾ

ALSO READ: AZAD SOCH PUNJABI NEWS PAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *