Captain Sidhu War-कैप्टन और सिद्धू में तेज़ होगी जंग, जानिए क्यों Captain Sidhu War-कैप्टन और सिद्धू में तेज़ होगी जंग, जानिए क्यों
BREAKING NEWS
Search

Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Sidhu Invitation

कैप्टन और सिद्धू में तेज़ होगी जंग, जानिए क्यों

289

Chandigarh, 5 December 2019 : Captain Sidhu War – पंजाब कांग्रेस में सिद्धू के मंत्री पद के अस्तीफ़े के बाद से शुरू हुई धीमी जंग रुकने का नाम ही नहीं ले रही . लोक सभा चुनाव के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को उनके पसंदीदा मंत्री पद से हटा कर बिजली मंत्री बना दिया था और सिद्धू ने अपना बिजली मंत्री के पद सँभालने से इंकार करते हुए तबसे लेकर आज तक इसी उम्मीद में चुप बैठे थे कि कैप्टन उनको फिर से दवाब में आकर पसंदीदा विभाग के मंत्री बना देंगे लेकिन अब कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच सुलह-सफाई के सारे रास्ते बंद होते नजर आ रहे हैं क्योंकि मुख्यमंत्री ने सिद्धू के इस्तीफे के बाद कैबिनेट में खाली हुए पद को भरने की तैयारी कर ली है।

सिद्धू कि जगह पर कपूरथला के विधायक राणा गुरजीत सिंह एक बार फिर कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी सूत्रों के अनुसार इस रिक्त पद को भरने की एक वजह विभिन्न विधायकों की ओर से बगावती सुर अपनाना भी है।

नागरा और केपी भी रखते है मंत्री बनने की आस

कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की सरकार के मात्र दो साल बचे हैं। ऐसे में तमाम विधायकों की नजर इस खाली पद पर है। मंत्री बनने की दौड़ में विधासभा के स्पीकर राणा केपी सिंह भी शामिल हैं। वह लंबे समय से इस‍के लिए प्रयास कर रहे हैं। युवा नेता कुलजीत नागरा के भी दौड़ में शामिल होने की चर्चा है। वह राहुल गांधी के करीबी नेताओं में माने जाते हैं। नवजोत सिंह सिद्धू ने जुलाई में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। मई में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव के बाद कैबिनेट में हुए फेरबदल से वह नाराज थे।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकसभा चुनाव में शहरी सीटों पर हार का ठीकरा नवजोत सिद्धू पर फोड़ते हुए उन्हें स्थानीय विभाग से हटाकर बिजली विभाग में भेज दिया था। सिद्धू ने बिजली विभाग का कार्यभार संभालने से इन्कार कर दिया था। उन्होंने हाईकमान से भी इसकी गुहार लगाई कि उनका महकमा न बदला जाए, लेकिन लोकसभा चुनाव में मिली हार के कारण कांग्रेस हाईकमान भी इतनी कमजोर हो चुकी थी कि किसी ने भी स्टार प्रचारक नवजोत सिद्धू की नहीं सुनी।

पंजाब विधानसभा चुनाव में 77 सीटें जीतने के बाद लोकसभा में भी पार्टी को आठ सीटें मिलने से कैप्टन अमरिंदर सिंह मजबूत नेता के रूप में उभरे। इससे चलते सिद्धू बिल्कुल हाशिए पर चले गए। यहां तक कि बाद में चार सीटों पर हुए उपचुनाव और प्रकाशोत्सव को लेकर करवाए गए समारोह में भी नवजोत सिद्धू को पंजाब सरकार ने कोई तवज्जो नहीं दी।

सिद्धू के इस्तीफे के कारण खाली हुए पद को लेकर राजनीतिक हलकों में यह चर्चा चल रही थी किसी समय सिद्धू के साथ कैप्टन की फिर से सुलह हो सकती है। इसलिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह इस पद को भरने के लिए अभी तैयार नहीं हैैं, लेकिन अब एक बार फिर कैबिनेट विस्तार की चर्चा चल पड़ी है। ऐसे में माना जा रहा है कि कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिद्धू के बीच सुलह के सभी दरवाजे बंद हो गए हैं।

सिद्धू को लगने वाले इस झटके के बाद पंजाब कांग्रेस को भी झटका लग सकता है क्योंकि कैप्टन सरकार से नराज़ चल रहे विधायकों को सिद्धू के रूप में उनका हाथ थामने वाला कोई वड़ा लीडर मिल सकता है जिसके चलते यह अंदाज़ा लगाया जा रहा कि आने वाले दिनों में कैप्टन सर्कार के लिए किसी भी तरह का संकट सामने आ सकता है -Captain Sidhu War

ALSO READ: Reela Wala Deck R Nait New Punjabi Song 2019

ALSO READChitta Kurta Latest Punjabi Song Sung By Karan Aujla

ALSO READ: Viral: जैकलीन के साथ सलमान खान ने किया मुन्नी बदनाम पर डांस

ALSO READ: KHATARNAAK singer Gippy Grewal and Bohemia

ALSO READ: GLOCK Singer MANKIRT AULAKH New Punjabi Song 2019

ALSO READ: Azad SOch Punjabi Epaper




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *