Punjabi Singer Mohamand Sadiq जीवन की कुछ बातें जो आपको नहीं पता Punjabi Singer Mohamand Sadiq जीवन की कुछ बातें जो आपको नहीं पता

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Punjabi singer Mohamand Sadiq

एमपी मोहम्मद सद्दीक के जीवन की कुछ बातें जो आपको नहीं पता

491

पंजाबी गायकी में सफल होने के बाद कुछ गायक फ़िल्मी सफर पर जातें हैं और कुछ राजनीती में अपनी किस्मत अजमाते हैं । ऐसे ही कई मुल्कों में परफाॅर्मेंस दे चुके पंजाबी लोक गायक ने पहले फिल्मी सफर का आनंद लिया और अबी सांसद बनकर राजनीती में आने वाले सद्दीक किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। लगभग 60 साल से संगीत और फ़िल्मी जगत में सक्रिय इस सद्दीक ने जिंदगी में ऐसे उतार-चढ़ाव देखे, जहां इंसान थककर हार मान लेता है। mohamand sadiq Ranjit Kaur की दोगाना जोड़ी काफी मकबूल हुई है ।

अब 80 साल की उम्र में भी पूरी जिंदादिली से मुसीबतों को शिकस्त देने का हौसला रखते हैं, आइये जानते हैं उनके संघर्षों और कामयाबी की कहानी……………

बोले सांसद और सिंगर मोहम्मद सद्दीक

(Punjabi Singer mohamand sadiq)

‘मेरी पैदाइश (Mohamand Sadiq Birth Place) लुधियाना (Ludhiana) के रामपुर (Rampur) में हुई। 5वीं तक पढ़ाई ननिहाल गांव संगरूर (Sangrur) में हुई। फिर मालेरकोटला(Malerkotla) गया। वहां आर्थिक तंगी के चलते मैट्रिक से पहले पढ़ाई छूट गई। पर उसी स्कूल से नई जिंदगी का सफर भी शुरू हुआ। बालसभा में गाता था, तब सीएम बाबू वृषभान (CM Babu Brishabhan) स्कूल में आए। मैंने मोहम्मद रफी (Mohamand Raffi) का गाना गाया तो 100 रु. इनाम मिला। ये 1950-51 की बात है, तब ये मेरे लिए बहुत बड़ा हौसला था।

उधर, पिता फौज की नौकरी (Army Job) छोड़ संगीत के क्षेत्र में जुड़ गए। मुझसे छोटे 2 भाई व 3 बहनें और मां थीं। पशुओं से थोड़ा कमाई का सहारा था। जिम्मेदारी बढ़ी तो पिता ने यूपी से रामलीला (Ram Leela) करने आई ड्रामा कंपनी (Drama Company) में 15 रु. माह पर नौकरी दिला दी। 1955 में पिता पटियाला के उस्ताद बाकिर हुसैन (Baqir Hussain Patiala) के पास ले गए।

वहां सीखने को रोज 10 किमी साइकिल से जाता था। हालात अच्छे न थे, 4 माह में रियाज (Singing Practice) छोड़ना पड़ा। फिर 20 रु. माह पर ड्रामा कंपनी जॉइन की। 1957 में शादी हो गई। पत्नी अशिक्षित थी, पर तमाम मुश्किलों के बाद उसने घर संभाला। 6 बेटियां हुईं, सभी को पढ़ने के लिए प्रेरित किया। बेटे का कभी गम न रहा। उस दौर में कमाई कम होने से ड्रामा कंपनी छोड़नी पड़ी। पर संघर्ष नहीं छोड़ा।

रामलीला (Ram Leela) में मौका मिला तो नया प्रयोग किया। वायलिन की बजाय तुंबी (Tumbi) संभाली तो ज्यादा रिस्पांस मिला। बाद में 80 रु. वेतन पर सूचना-जनसंपर्क विभाग (Public Relation Department Team) की टीम जॉइन की। राजपुरा (Rajpura) में पीएम नेहरू के सामने परफाॅर्मेंस दी तो महकमे ने नौकरी पक्की कर दी। टीम इंचार्ज ने इस्तीफा दिया तो उनकी पोस्ट मिली व वेतन 200 रु. हो गया। 1962 में पहला गीत रिकॉर्ड हुआ।

इसे सुन एक अफसर ने प्रेरित किया तो नौकरी छोड़ 1966 में ड्यूट सॉन्ग (First Duet Song) शुरू किए। एक साल बाद गायकी छोड़ डीजल सेंटर खोल (Disel Centre) लिया। मैनेजर ने काम छोड़ा तो फिर पुराने ट्रैक पर लौट आया। 1967 में रणजीत कौर (Female Singer Ranjit Kaur) के साथ गाना शुरू किया। हमारी पारी 40 साल चली और कई मुल्कों में शोहरत मिली। कामयाबी के इस सफर में कई कड़वे सच छिपे होते हैं, यही मेरी जिंदगी में रहा।

जिस दिन पिता गुजरे, पहले से बुक प्रोग्राम किया, फिर लौटकर उनका शव दफनाया। जिस दिन मां गुजरी, तब भी परफाॅर्मेंस देते पहले लोगों को हंसाया, जब मां की याद आई तो स्टेज पर रो पड़ा और लौटकर सुपुर्द-ए-खाक किया। जब पत्नी गुजरी तो मुझे रोते देख शागिर्दों ने हिम्मत बढ़ाई कि हम बच्चों ने भी मां को खोया है। बहुत कुछ गाया, पर शबद मित्तर प्यारे नूं गाकर मेरी 30 साल पुरानी रुहानी मुराद पूरी हुई थी।

2012 में राजनीति में किस्मत अजमाई और भदौड़ रिजर्व सीट (Reserve Seat Bhadaur) से विधान सभा चुनाव जीता। विरोधी उमीदवार ने कोर्ट में चुनौती दी, पर सुप्रीम कोर्ट से जीत मिली। 2019 में फरीदकोट (Faridkot) सीट से लोक सभा चुनाव जीता। स्टेज से लेकर संसद तक पंजाबी पोशाक तुरले वाली पगड़ी (Turle Wali Pagg) चादरा (Chadara) व बिना लाग-लपेट अदब से बातचीत मुझे सभी से अलग पहचान देती है।

Punjabi Singer Mohamand Sadiq Ranjit Kaur

ALSO READ: Reela Wala Deck R Nait New Punjabi Song 2019

ALSO READ: GLOCK Singer MANKIRT AULAKH New Punjabi Song 2019

ALSO READ: Viral: जैकलीन के साथ सलमान खान ने किया मुन्नी बदनाम पर डांस

ALSO READ: Azad Soch Punjabi Epaper




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *