Punjab Congress War -कैप्टन हाई कमान पर भारी, सिद्धू को किया सीधा Punjab Congress War -कैप्टन हाई कमान पर भारी, सिद्धू को किया सीधा
BREAKING NEWS
Search

Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Punjab Congress War

कैप्टन पड़े हाई कमान पर भारी, सिद्धू को किया सीधा

369

चंडीगढ़ 3 January 2020Punjab Congress War– नवजोत सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) हाई कमान पर भारी पड़ते दिखाई दे रहे हैं । सिद्धू को पंजाब कैबिनेट से इस्तीफा दिए छह माह से अधिक हो गया है। इस्तीफा देने के बाद से खुद सिद्धू ने हाई कमान से विभाग न बदलने को लेकर गुहार भी लगाई थी लेकिन फिर भी कैप्टन के आगे हाई कमान फीकी पड़ती दिखाई दे रही है।

Navjot Sidhu पिछले समय से चुप है . सिद्धू की चुप्पी से भले ही पंजाब कांग्रेस को कोई असर नहीं पड़ रहा हो, लेकिन पार्टी हाईकमान बेचैन है। कांग्रेस हाईकमान चाहता है कि सिद्धू को फिर सक्रिय राजनीति में हिस्सा लें, लेकिन हाईकमान मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह सेे सीधी टक्कर भी नहीं लेना चाहता। सूत्र बताते हैं कि सोनिया गांधी बीच का रास्ता निकालने में जुटी हुई हैंं।

कांग्रेस की राजनीति में यह बात तेजी से उभर रही है कि सोनिया गांधी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को बुलाया है। हालांकि आंखों का आपरेशन करवाने के कारण कैप्टन अभी तक दिल्ली नहीं गए हैंं। पार्टी के उच्चस्तरीय सूत्र बताते हैंं कि सोनिया कैप्टन से सिद्धू को लेकर चर्चा करना चाहती हैंं, ताकि कैप्टन और सिद्धू के रिश्ते में आई दरार को भरा जा सके।

अहम बात यह है कि कांग्रेस सीधे रूप से सिद्धू को लेकर कोई भी निर्देश देने की भी हिम्मत नहीं जुटा पा रही है, क्योंकि जिस प्रकार से सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ टिप्पणियां की उसे देखते हुए भी कांग्रेस सीधे रूप से हामले में हस्तक्षेप नहीं करना चाहती है।

सिद्धू से कैप्टन क्यों चल रहें हैं नाराज

नवजोत सिद्धू ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर समय-समय पर कटाक्ष किए। हैदराबाद में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सिद्धू ने कहा था कि मेरे कैप्टन तो राहुल गांधी हैंं। कैप्टन अमरिंदर सिंह तो पंजाब के कैप्टन हैंं। यहींं नहीं, जब पुलवामा में आतंकवादियों ने सुरक्षाकर्मियों पर हमला किया तब भी कैप्टन और सिद्धू के वैचारिक मतभेद उभर कर सामने आए। कैप्टन ने विधानसभा में पाकिस्तान के खिलाफ कड़े कदम उठाने का बयान दिया तो सदन के बाहर सिद्धू ने कहा कि कुछेक लोगों की गलती से पूरे मुल्क को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। इसके कारण सिद्धू की सोशल मीडिया पर खासी खिंचाई भी हुई थी। रही सही कसर सिद्धू ने लोकसभा चुनाव के दौरान कैप्टन को बादलों के साथ रिश्तों को जोड़ते हुए बयान दिया, जिसे लेकर कैप्टन खासे नाराज हो गए।

कैप्टन ने नराज़ होकर बदल दिया था सिद्धू का विभाग

लोकसभा में पांच सीटों पर कांग्रेस की हार का ठीकरा कांग्रेस ने सिद्धू के पर फोड़ा। इसके बाद मुख्यमंत्री ने 15 मंत्रियों के विभागों में फेरबदल कर दिया। मुख्यमंत्री ने सिद्धू से स्थानीय निकाय विभाग लेकर ऊर्जा विभाग दे दिया, जिससे सिद्धू खासे नाराज हो गए। बाद में उन्होंने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया, जिसे मुख्यमंत्री ने स्वीकार कर लिया।

असल में क्या है सिद्धू कैप्टन जंग Punjab Congress War

पंजाब में असली लड़ाई 2022 को लेकर है। चूंकि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही यह कह चुके हैंं कि यह उनका अंतिम चुनाव होगा। इस वजह से 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का चेहरा कौन होगा? इस बात को लेकर खींचतान चल रही है। पंजाब कांग्रेस का एक वर्ग सिद्धू को चेहरा मान रहा है तो वर्षों से कांग्रेस के साथ जुड़े रहने वाले कांग्रेसी विधायकों को यह बात पच नहीं रही। चूंकि सिद्धू कांग्रेस में 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले ही शामिल हुए थे।

असल में खान फसा है पेंच -Punjab Congress War

दूसरी बार मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी निभा रहे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को कांग्रेस हाईकमान नाराज नहीं करना चाहती है, क्योंकि कैप्टन ही थे जिनकी अगुवाई में पंजाब में कांग्रेस ने 10 सालों बाद सत्ता वापस पाई। लोकसभा चुनाव में जहां पूूरे देश में कांग्रेस असर नहीं दिखा पाई, वहीं पंजाब में पार्टी ने 13 में से 8 सीटों पर जीत हासिल की, इसलिए भी सिद्धू को फिर पावर में लाने के लिए कांग्रेस कैप्टन के खिलाफ जाकर कोई फैसला नहीं लेना चाहती है।

ALSO READ: Reela Wala Deck R Nait New Punjabi Song 2019

ALSO READ: GLOCK Singer MANKIRT AULAKH New Punjabi Song 2019

ALSO READ: Viral: जैकलीन के साथ सलमान खान ने किया मुन्नी बदनाम पर डांस

ALSO READ: Azad Soch Punjabi Epaper




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *