Punjab Budget 2020- पंजाब के शराबी भरेंगे खज़ाना, महंगी होगी शराब Punjab Budget 2020- पंजाब के शराबी भरेंगे खज़ाना, महंगी होगी शराब
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Cabinet Meeting Punjab

पंजाब के शराबी भरेंगे खज़ाना , शराब पर लगेगा और टैक्स

58

चंडीगढ़, । Punjab Budget 2020- पंजाब की कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार आने वाली २५ फरवरी को अपना आम बजट पेश करने जा रही है । जिसके लिए पंजाब कैबनिट की एक मीटिंग हुईजिस में फैसला हुआ कि पंजाब विधानसभा का बजट सत्र 20 से 28 फरवरी तक चलेगा । पंजाब बजट 25 फरवरी को पेश किया जाएगा। कैबनिट में नई आबकारी नीति को भी मंजूरी दी गई है । नई आबकारी निति आने से पंजाब में शराब महंगी हो जाएगी। इस नीति के तहत लाइसेंस फीसों में वृद्धि की गई है। साल 2020-21 की आबकारी नीति में तय तरीकों पर निर्धारित लाइसेंस फीस और अतिरिक्त निर्धारित लाइसेंस फीस जमा करवानी होगी।

20 से 28 फरवरी तक चलेगा Punjab Budget 2020 Session

Punjab Budget Session 2020 छह दिन का होगा। यह Budget Session 20 फरवरी को सुबह 11 बजे शुरू होगा। जिस में सभ से पहले दिवंगत हस्तियों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। इसके बाद दोपहर 12 बजे पंजाबी भाषा से संबंधित बिल पेश किया जाएगा। 21 को महाशिवरात्रि और 22-23 को शनिवार और रविवार होने के कारण अवकाश रहेगा।

इसके बाद 24 फरवरी को सुबह 11 बजे राज्यपाल के भाषण पर धन्यवाद और बहस का प्रस्ताव पेश किया जाएगा। दोपहर 2 बजे भाषण पर बहस फिर से शुरू होगी , वर्ष 2018-19 के लिए भारत के कैग की रिपोर्ट (सिविल, व्यापारिक) और वर्ष 2018-19 के लिए पंजाब सरकार के वित्तीय लेखे और वर्ष 2018-19 के लिए विनियोजन लेखे 25 फरवरी को सुबह 10 बजे सदन में रखे जाएंगे। इसी दिन वर्ष 2019-20 के लिए ग्रांटों के लिए अनुपूरक मांगों, वर्ष 2019-20 के लिए ग्रांटों के लिए विनियोजन बिल और वर्ष 2020-21 के लिए बजट अनुमान पेश किए जाएंगे। 26 फरवरी को सुबह 10 बजे वर्ष 2020-21 के लिए बजट अनुमानों पर आम बहस शुरू होगी।

27 फरवरी को सुबह 10 बजे गैर-सरकारी कामकाज होगा, जबकि 28 फरवरी को वर्ष 2020-21 के लिए बजट अनुमानों के संबंध में ग्रांटों के लिए मांगों पर बहस और वोटिंग, वर्ष 2020-21 के लिए बजट अनुमानों के संबंध में विनियोजन बिल और वैधानिक कामकाज होगा और इसी दिन सदन को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया जाएगा।

10 रुपये महंगी होगी शराब , Online Sale की तैयारी

कैबिनेट ने राज्‍य की New Excise Policy को मंजूरी दे दी। इसके तहत Punjab में शराब और महंगी होने जा रही है। शराब के दाम प्रति बोतल पांच से 10 रुपये बढ़ेंगे। Punjab Govt शराब की Online Sale की संभावना भी तलाश रही है। इसे प्रयोग के रूप में मोहाली में शुरू करने का विचार है, लेकिन ऐसा तब होगा जब सभी लाइसेंसधारक ऑनलाइन बिक्री पर सहमत होंगे। अन्यथा यह प्रयोग नहीं होगा।

ऐसे मौजूदा लाइसेंस धारकों को Year 2020-21 के लिए नवीकरण की इजाजत दी जाएगी, जो कम-से-कम गारंटीशुदा राजस्व (एमजीआर) से 12 फीसद और ज्यादा आय हासिल करते हैं। साल 2019-20 में 5676 करोड़ के मुकाबले 6250 करोड़ राजस्व का लक्ष्य रखा गया है। चालू वित्त वर्ष में एक्साइज से 5676 करोड़ राजस्व पहुंचने का अनुमान है, जो पिछले साल 5150 करोड़ रुपये था। नया लक्ष्य पिछले साल के मुकाबले 526 करोड़ ज्यादा है।

Excise Policy 2020 में ग्रुपों की संख्या पिछले साल वाली 756 ही रखी गई है। साल 2020-21 के दौरान परचून विक्रेताओं से एमजीआर का अनुमान लगभग 4850 करोड़ रुपये लगाया, जो साल 2019-20 के दौरान 4529।40 करोड़ रुपये था। साल 2020-21 के दौरान हर ग्रुप/जोन के एमजीआर को 2019-20 के मुकाबले आठ फीसद बढ़ाया गया है।

इसके अतिरिक्‍त New Excise Policy पर भी चर्चा हुई। नई आबकारी नीति के तहत साल 2020-21 की आबकारी नीति में तय तरीकों पर निर्धारित लाइसेंस फीस और अतिरिक्त निर्धारित लाइसेंस फीस जमा करवानी होगी जो मिसाल के तौर पर 28 फरवरी, 2020 तक 10 लाख रुपये और बाकी रकम 23 मार्च, 2020 तक देनी होगी। नई नीति के अंतर्गत 2019-20 के दौरान 600 करोड़ रुपये की तय लाइसेंस फीस बढ़ाकर 625 करोड़ रुपए की गई है। जबकि 2019-20 के दौरान 120 करोड़ रुपये की अतिरिक्त तय लाइसेंस फीस को भी परचून में आबकारी ड्यूटी में वृद्धि की जाएगी जो पीएमएल के लिए 5 रुपये, आईएमएफएल के लिए चार रुपये और बीयर के लिए दो रुपये है।

Punjab Budget 2020– थोक पड़ाव पर पीएमएल पर Excise Tax की दरों में कोई वृद्धि नहीं हुई है। आईएमएफएल के मामलों में लगभग पांच प्रतिशत की वृद्धि है और बीयर के मामलों में स्ट्रांग बीयर के लिए 62 रुपये प्रति बोतल से बढ़ाकर 68 रुपये की गई है।

New Excise Policy के अनुसार PML के निर्धारित कोटे की Ex-distillery price (EDP) को प्रति केस 271।11 रुपये निर्धारित किया गया है। अब परचून लाइसेंस धारक को उसके PMML, IMFL और Bear के कोटे में 15 प्रतिशत तक के लेन-देन की इजाज़त होगी। Imported (बी।आई।ओ।) शराब पर अदा किए गए वैट को अगले साल लाइसेंसों के नविकरणीय के लिए अतिरिक्त निर्धारित लाइसेंस फीस और अतिरिक्त 12 प्रतिशत राजस्व की ज़रूरत में एडजस्ट किया जायेगा।

ALSO READ: Reela Wala Deck R Nait New Punjabi Song 2019

ALSO READ: GLOCK Singer MANKIRT AULAKH New Punjabi Song 2019

ALSO READ: Azad Soch Punjabi Epaper




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *