अमरीका की अपेक्षा 20 गुणा बेहतर,भारत में कोरोना वायरस के ठीक हो दर रिपोर्ट AZAD SOCH अमरीका की अपेक्षा 20 गुणा बेहतर,भारत में कोरोना वायरस के ठीक हो दर रिपोर्ट AZAD SOCH
Search

Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
अमरीका की अपेक्षा 20 गुणा बेहतर,भारत में कोरोना वायरस के ठीक हो दर रिपोर्ट

अमरीका की अपेक्षा 20 गुणा बेहतर,भारत में कोरोना वायरस के ठीक हो दर रिपोर्ट

140

AZAD SOCH :-

NEW DELHI :- दुनिया भर में कोरोना वायरस फैल चुका है, जिस कारण बहुत सी लोगों की मौत हो रही है, और मरने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है, यूरोप,इटली,स्पेन,जर्मनी,ईरान,अमरीका और इस के इलावा ओर भी बहुत सी देश जहाँ कि कोरोन वायरस के साथ मरने वालों की संख्या बहुत ज़्यादा है,चीन से शुरू हो कर यह वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुका है ।

यदि भारत की बात की जाये, तो भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या भी हर रोज़ बढ़ रही है,परन्तु इस वायरस के साथ मरने वालों की संख्या दूसरे देशों से बहुत कम है, परन्तु कोरोना वायरस की मरीज़ जो पॉजिटिव केस अब तक 1लाख से पर हो चुकी है, भारत में इस वायरस के साथ लड़ने के लिए लोगों शक्ति दूसरे देशों बहुत अच्छी मानी गई है ।

ਪਾਕਿਸਤਾਨ ਦੀ ਰਹਿਣ ਵਾਲੀ ਸਿੱਖ ਮਹਿਲਾ ਪੱਤਰਕਾਰ ਯੂਕੇ ਵਿੱਚ ਸਨਮਾਨ

भारत में कोरोना पीडितों के ठीक होने की दर अमरीका की अपेक्षा 20 गुणा बढ़िया है। अमरीका में जब कोरोना समीपता के कुल केस 1 समझ थे, तब सिर्फ़ 2% लोग बीमारी से ठीक हुए थे, जबकि भारत में लगभग 40% लोग पूरी तरह ठीक हो चूे हैं। विश्व के कई देशों के मुकाबले भारत में लोगों की ठीक होने की दर काफ़ी वध है।

नीति कमीशन के सीईयो अमिताभ प्रसन्न ने भी टवीट करके बताया कि हमारी स्थिति इस की अपेक्षा कहीं बेहतर है। उन लिखा कि देश में प्रति 10 समझ लोगों में से सिर्फ़ 2लोगों की मौत हो रही है, जबकि अमरीका में यह संख्या 275 और स्पेन में 591 है।

भारत में मौत की दर लगभग 3% है और ठीक होने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। दुनिया भर में अगर कोरोना मरीज़ों के ठीक होने की बात करें तो अमरीका में 2%, रूस में 11%, इटली में 14%, तुरकी विच 18%, फ्रांस में 21%, स्पेन में 22%, जर्मनी में 29% और भारत में कोरोना दे मरीज़ अब तक ठीक हो चूे हैं। यह कहा जा रहा है कि भारत में सही समय कोरोना के सम्बन्ध में ज़रूरी कदम चूे गए हैं।

नवाज़ूदीन सिदिकी की पत्नी आलिया ने दायर किया तलाक,भेजा नोटिस

अस्पतालों में सहूलतों में तेज़ी के साथ विस्तार किया गया। इस कारण कोरोना समीपता देर से फैली और सेहत सहूलतें पहले ही उपलब्ध होने के कारण सही इलाज मिला। जागरूकता कारण लोग अस्पतालों में जल्दी पहुँचे और अपना इलाज करवाया। भारत में नौजवानों की संख्या बढ़ और उन की इम्युनिटी व्यवस्था मज़बूत होने के कारण भी बीमारी के साथ मुकाबलो में मदद मिली है।

AZAD SOCH :- E-PAPER




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *