कोरोना संकट के चलते उबेर ने 600 स्थायी कमरचारियें को नौकरी से किया बाहर कोरोना संकट के चलते उबेर ने 600 स्थायी कमरचारियें को नौकरी से किया बाहर
BREAKING NEWS
Search

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
कोरोना संकट के चलते उबेर ने 600 स्थायी कमरचारियें को नौकरी से किया बाहर

कोरोना संकट के चलते उबेर ने 600 स्थायी कमरचारियें को नौकरी से किया बाहर

327

AZAD SOCH :-

NEW DELHI :- कोरोना वायरस यहाँ देश लगातार फैल रहा है, पूरी दुनिया अपानी चपेट में ले रहा है, जिस कारण इस का प्रभाव अब दुनिया के कारोबार और पड़ना शुरू हो गया है, दुनिया के कई देश अपने कारोबार बंद कर रहे हैं जिस का कारण कोरोना है ।

कई कंपनियाँ अपने कर्मचारियों को बाहर निकाल रही हैं। कोरोना कारण बहुत सी कारोबार बंद हो चुके हैं, दुबई में अपने वाले समय बहुत सी काम कारोबार बंद हो जाएंगे, इस के साथ बेरोजगारी अधिक सकती है,

ਯੂਕੇ ਵਿੱਚ ਹੋਏ ਗੁਰੂ ਘਰ ਤੇ ਹਮਲ੍ਹਾ ਕਰ ਵਾਲਾ ਹਮਲਾਵਰ ਗ੍ਰਿਫਤਾਰ, ਗੁਰਦੁਆਰੇ ਦੀ ਕੀਤੀ ਸੀ ਭੰਨਤੋੜ

वहाँ ही अब भारत में भी इस कोरोना वायरस का प्रभाव कारोबार और देखने को मिल रहा है, जो कि भारत के लिए एक चिन्न्हतों का विश्हें बन चुका है, जानकारी अनुसार भारत में कोरोना वायरस संकट के कारण जारी लॉकडाउन का देश में कंपनियों पर बेहद गहरा असर देखा जा रहा है और कंपनियों की तरफ से लगातार छंटनी किए जाने या कर्मचारियों की सेलरी घटाने जैसी खबरें आरही हैं।

अब एप बेस्ड टैक्सी सर्विस प्रोवायडर उबर इंडिया ने अपने 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की घोषना कर दी है। ये उसकी कुल वर्कफोर्स का एक चौथायी यानि कुल 25 फीसदी है जो की काफी बड़ी संख्या कही जा सकती है।

बता दईए कि कैब सर्विस प्रोवाईडर सैक्टर में उबेर की विरोधी कंपनी ओला ने भी कोरोना तबाही के साथ पूर करने के लिए कर्मचारियों की फिर छंटनी शुरू की है। सिर्फ़ पिछले हफ़्ते ही ओला ने 1400 कर्मचारियों को नौकरी से फ़ारिग किया है।

यह देश में ओला के कुल कर्मचारियों का 35 प्रतीशत है।उबर इंडिया के दक्षिण एशिया कारोबार के अध्यक्ष प्रदीप परमेस्वरन ने एक बयान जारी करके ये जानकारी दी है। कंपनी के बयान के मुताबिक कोरोना वायरस महामारी के चलते ऐसा कदम उठाना पड़ रहा है।

जिन कर्मचारियों को निकाला जा रहा है उनमें ड्रायवर्स से लेकर रायडर स्पोर्ट ऑपरेशंस के स्टाफ से लेकर दूसरे कार्यों से जुड़े लोग शामिल हैं। हालांकि उबर ने जिन लोगों को नौकरी से निकालने का ऐलान किया है उन्हें कंपनी तीन महीने की सेलरी समेत छह महीने की मेडिकल इंश्योरेंस की सुविधा दे रही है।

पिछले हफ्ते ही उबर इंडिया की पेरेंट कंपनी उबर टेक्नोलॉजीज जो की एक यूएस-बेस्ड कंपनी है उसने भी अपने कार्यबल में 23 फीसदी कटौती करने का ऐलान किया था ।

उबेर के भारत और दक्षिणी एशिया के प्रधान प्रदीम परमेसवरन ने कहा कि नौकरी में कटौती हाल ही में ऐलाने गए ग्लोबल नौकरियों में कट का हिस्सा है। उबेर ने विशव स्तर ोते कुल 6700 कर्मचारियों को बरख़ास्त किया है, जो कि इस के कुल वरकफोरस का करीब 25 प्रतीशत है।

भारत और चीन सरहद पर बीच हलात तनावपूर्ण,जारी रहेगा सड़क निरमाण

AZAD SOCH :- E-PAPER

AZAD SOCH :- TV




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *