कुवैत में आठ लाख भारतियों की नौकरी को ख़तरा, पास होगा यह बिल कुवैत में आठ लाख भारतियों की नौकरी को ख़तरा, पास होगा यह बिल
BREAKING NEWS
Search

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
कुवैत में आठ लाख भारतियों की नौकरी को ख़तरा, पास होगा यह बिल

कुवैत में आठ लाख भारतियों की नौकरी को ख़तरा, पास होगा यह बिल

173

AZAD SOCH : –

कुवैत :- कुवैत की नेशनल एसेंबली की कानूनी और विधायी समिति ने प्रवासी कोटा बिल के मसौदे को मंजूरी दे दी है जिससे 8 लाख भारतीय कामगारों को कुवैत से लौटना पड़ सकता है,इस के साथ इस खाड़ी देश में विदेशी कामगारों की संख्या में कटौती की जायेगी।

इस बिल को फ़िलहाल एक ओर समिति की तरफ से शक्ति दी जानी बाकी है नेशनल एसेंबली की कानूनी और विधायी समिति ने तय किया है की प्रवासी कोटा बिल का मसौदा संवैधानिक है, परन्तु इस के बावजूद भारतियों के लिए मुश्किलों बढ़ गई हैं।

ਪੰਜਾਬ ਵਿੱਚ ਅੱਜ ਕੋਰੋਨਾ ਦੇ 175 ਨਵੇਂ ਕੇਸ,ਸੰਕਰਮਿਤ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦੀ ਗਿਣਤੀ ਹੋਈ 6283

यह बिल के पास हो गया तो करीब 7-8 लाख भारतीय कामगारों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है,कुवैत में बड़ी संख्या में भारतीय काम करते हैं,कुवैत में प्रवासियों में सब से अधिक संख्या भारतियों की है,इस बिल के मुताबिककिसी भी एक देश के प्रवासियों की संख्या की संख्या कुवैत की आबादी के 15 फीसदी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

अभी यह बिल संबंधित समिति के पास विचार के लिए भेजा जाएगा,इस बिल के पास हो से बाअदकरीब 8लाख भारत्यों को कुवैत छोड़ना पड़ सकता है,यहें के प्रवासी समुदाय में सबसे ज्यादा संख्या भारत्यों की ही है,एक जानकारी अनुसार कुवैत की कुल आबादी 43 लाख है जिसमें से 30 लाख प्रवासी हैं।

इस में तकरीब प्रवासियों में 14.5 लाख भारतीय हैं,यदि यह बिल के पास हो गया तो भारत्यों की संख्या 6-7 लाख तक सीमित कर दी जाएगी,कुवैत के प्रवासी भारत्यों से भारत को अच्छा खासा रेमिटेंस (वहें के प्रवासी जो पैसा अपने घर भेजते हैं) मिलता है, 2018 में कुवैत से 4.8 अरब डालर का रेमिटेंस हासिल हुआ था इस के साथ ही अब कुवैत विदेशी कामगारों की संख्या कम करना चाहता है ।

कुवैत ऐसा इस लिए करन जा रहा है क्योंकि वहाँ के नागरिक अपने ही देश में कम संख्या हो गए हैं,48 लाख की आबादी वाले कुवैत में 30 लाख प्रवासी लोग हैं,कुवैत में दुनिया भर के लोग यहाँ काम के लिए आते जिस में पाकिस्तान,बंगलादेश,श्रीलंका,भारत और ओर भी कई देश हैं,कुवैत की अपनी आबादी बहुत ही कम है, परन्तु इस समय यहाँ जो लोग काम के लिए आते हैं, वह कुवैत की आबादी की अपेक्षा किये ज़्यादा हैं।

ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਕੈਪਟਨ ਅਮਰਿੰਦਰ ਸਿੰਘ ਵੱਲੋਂ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਤੇ ਕਾਲਜਾਂ ਦੀਆਂ ਪ੍ਰੀਖਿਆਵਾਂ ਰੱਦ ਕਰਨ ਦਾ ਐਲਾਨ

कोरोना टीका 15 अगस्त को लांच किया सकता है ICMR का ऐलान

कानपुर मुठभेड़ मामला- विकास दुबे का दोस्त दयाशंकर पुलिस की गिरफ्त में,

रूस को पीछे छोड़ा,भारत कोरोना वायरस के मामाले में पहले 3 देशों शामिल,

ਖੁਦਖੁਸ਼ੀ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਗੁਰਸੇਵਕ ਸਿੰਘ ਧੂਹੜ ਦੀ ਪਤਨੀ ਨੇ ਕੀਤੀ ਆਤਮ ਹੱਤਿਆ

AZAD SOCH :- E-PAPER

AZAD SOCH :- TV

ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਖ਼ਬਰਾਂ ਅਤੇ update ਲਈ facebook page like ਅਤੇ twitter follow ਕਰੋਂ





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *