पंजाब हुनर विकास मीसन और ISB के Munjal Institute for Global Manufacturing पंजाब हुनर विकास मीसन और ISB के Munjal Institute for Global Manufacturing
BREAKING NEWS
Search
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
पंजाब हुनर विकास मीसन और ISB के Munjal Institute for Global Manufacturing की तरफ से सांझे तौर पर की गई तैयार

पंजाब हुनर विकास मीसन और ISB के Munjal Institute for Global Manufacturing की तरफ से सांझे तौर पर की गई तैयार

23

AZAD SOCH:-

मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी की तरफ से सकिलिंग और रोज़गार पर पी.ऐम्म.के.वी.वायी -2का प्रभाव – सीऐससीऐम और सीऐसऐसऐम प्रोगरामों का तुलनात्मिक अध्ययन सम्बन्धित आनलाइन रिर्सच रिपोर्ट जारी

Mohali,(AZAD SOCH NEWS):- Munjal Institute for Global Manufacturing: तकनीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री श्री चरनजीत सिंह चन्नी ने आज इंडियन स्कूल आफ बिज़नस (आईऐसबी), मुहाली कैंपस स्कूल में एक विशेश प्रोगराम में “सकिलिंग और रोज़गार पर पी.ऐम्म.के.वी.वायी -2का प्रभाव सम्बन्धित रिर्सच रिपोर्ट आनलाइन जारी की।


यह रणनीतक खोज अध्ययन पंजाब हुनर विकास मीसन, पंजाब सरकार और आईऐसबी की मुंजाल इंस्टीट्यूट फार ग्लोबल मैनुफ़ेक्चरिंग ने सांझे तौर पर किया,यह प्रधान मंत्री कौंसिल विकास योजना 2(पी.ऐम.के.वी.वाई. 2) अधीन पंजाब में केंद्र सरकार और सूबा सरकार की तरफ से चलाई जा रही सकिलिंग पहलकदमी के ज़मीनी प्रभावों को मशहूर करता है।


इस आनलाइन समारोह को संबोधन करते श्री चन्नी ने कहा, ‘भारतीय आर्थिकता की सफलता के लिए कामगारों का हुनर विकास एक महत्वपूर्ण थम है और सरकार ने इस को अगले स्तर पर लेजाने के लिए कई उपराले किये हैं,प्रधान मंत्री कौंसिल विकास योजना ऐसी ही एक पहलकदमी है जो भारतीय अरथचारे को बदल सकती है।

पंजाब सरकार और इंडियन स्कूल आफ बिज़नस ने एक सांझी रिपोर्ट पेश की है जो पीऐमकेवीवायी के सकिलिंग और रोज़गार पर पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन करती है,यह रिपोर्ट सूबा स्तर पर पी.ऐम.के.वी.वाई. की प्रभावशीलता को दिखाती है,मैं उन सभी को शुभ्भकामनावें देता हूँ,’
रिपोर्टों में महत्वपूर्ण खोजूँ बारे बताते मुंजाल इंस्टीट्यूट फार ग्लोबल मैनुफ़ेक्चरिंग के कार्यकारी डायरैक्टर प्रोफ़ैसर चंदन चौधरी ने कहा कि अध्ययन दिखाता है।

कि सीऐसऐसऐम योजना राज हुनर विकास मीसन (ऐसऐसडीऐम) और अपने मज़बूत सकिलिंग ईकोसिस्टम के साथ बहुत प्रभावशाली रही है,हमें यकीन है कि केंद्र और सूबा सरकारें की तरफ से दोनों हिस्सों के तुलनात्मिक विशलेशण के साथ प्रोगराम के लागूकरन की कुशलता बारे गहरी सूझ मिलेगी,उन्होंने यह भी कहा कि सीऐसऐसऐम और सीऐससीऐम योजनाओं के तुलनात्मिक विशलेशण के आधार पर हम सीऐसऐसऐम कम्पोनेंट के लिए फंड बढ़ाने की सिफारश करते हैं।


प्रोफ़ैसर चंदन चौधरी, आईऐसबी, डा. सन्दीप सिंह कड़वा, परविन्दर कौर, प्रोजैक्ट कोआरडीनेटर, पीऐमकेवीवायी और अरुणिमा पाल आईऐसबी की रिर्सच टीम ने पंजाब में सैंटरली सपांसरड सैंटरली मैनेजड (सीऐससीऐम) और सैंटरली सपांसरड और स्टेट मैनेजड (सीऐसऐसऐम) प्रशिक्षण प्रोगराम दरमियान पीऐमकेवीवाईवायी सकिलिंग प्रोगराम के नतीजों में अंत्र का विशलेशण करन के लिए एक विसथारत अध्ययन किया जिस में सीऐससीऐम के लिए 167,792 रिकार्ड हैं और सीऐसऐसऐम प्रोगराम के लिए 22,494 रिकार्ड हैं।

रिपोर्ट में अलग -अलग पहलूयों से रोज़गार पर सकिलिंग के प्रभावों जैसे नौकरियाँ और तनख्वाहें पर सरटीफिकेशन के प्रभाव, सीऐससीऐम और सीऐसऐसऐम स्कीमों में सकिलिंग मुकम्मल होने के बाद शिक्षार्थियों की रोज़गार की स्थिति, पुरश और महिला उम्मीदवारों की प्लेसमेंट कारगुज़ारी, सीऐससीऐम और सीऐसऐसऐम स्कीमों में सकिलिंग प्रोगराम उपरांत शिक्षार्थियों की मासिक तनख़्वाह।

सीऐससीऐम और सीऐसऐसऐम स्कीमों उपरांत प्रशिक्षण प्रोगराम मुकम्मल होने पर अलग अलग शैक्षिक स्तर पर उम्मीदवारों की तनख़्वाह और पुरशें और महिला उम्मीदवारों में तनख़्वाह में असमानता सम्बन्धित विशलेशण किया गया है,टीम ने कोविड -19 के प्रभाव को समझने के लिए पंजाब में सकिलिंग पहलकदमियें पर सीऐसऐसऐम प्रोगराम के 44966 उम्मीदवारों के रिकार्डों का विशलेशण भी किया।


श्री राजिन्दर गुप्ता, चेयरमैन ट्राइडेंट समूह, श्री हरप्रीत सूदन, आई.ए.ऐस्स., डायरैक्टर रोज़गार जन्म और तकनीकी शिक्षा, श्री अनुराग वर्मा, प्रमुख सचिव, तकनीकी शिक्षा विभाग, रोज़गार जन्म और हुनर विकास विभाग और डा.राजा सेखर वांदरू, आई.ए.ऐस., हरियाणा सरकार के अधिक मुख्य सचिव, हुनर विकास और औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग ने भी रिपोर्ट पर अपने विचार सांझे किये।

और इस बात पर रौशनी पाया कि रिपोर्ट के नतीजे पी.ऐम्म.के.वाई.वायी -3की शुरूआत के लिए कैसे लाभकारी होंगे,इस समागम की समाप्ति डा. सन्दीप सिंह कड़वा, पी.ऐच.डी स्कालर, आई.ऐस्स.बी., पंजाब सरकार, भारी डिवैल्पमैंट और टैकनिकल ऐजूकेशन के सलाहकार की तरफ से हाज़रीन का धन्यवाद करते की गई।

AZAD SOCH :- E-PAPER

ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਖ਼ਬਰਾਂ ਅਤੇ update ਲਈ Facebook Page Like ਅਤੇ Twitter Follow




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *