Eid al-Adha 2021: आज पूरे देश में मनाई जा रही है बकरीद Eid al-Adha 2021: आज पूरे देश में मनाई जा रही है बकरीद
BREAKING NEWS
Search

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Eid al-Adha 2021

Eid al-Adha 2021: आज पूरे देश में मनाई जा रही है बकरीद

3

AZAD SOCH:-

New Delhi,(AZAD SOCH NEWS):- Eid al-Adha 2021: देशभर में आज ईद-उल-जुहा या बकरीद (Eid-ul-Zuha or Bakrid) मनाई ज रही है,इसको लेकर पिछले कई दिनों से तैयारियां जोरों पर हैं,बकरीद का त्योहार कुर्बानी के दिन के रूप में भी याद किया जाता है,इस्लामिक कैलेंडर (Islamic calendar) के अनुसार कुर्बानी का त्योहार बकरीद रमजान के दो महीने बाद आता है।

ईद-उल-जुहा (Eid-ul-Zuha) को हमारे देश के अलावा कहीं भी बकरीद नहीं कहा जाता है,आमतौर पर इस दिन बकरे की बलि दी जाती है, इसलिए इसे हमारे देश में बकरीद भी कहा जाता है,इस दिन अल्लाह के लिए बकरे की कुर्बानी दी जाती है,इस धार्मिक प्रक्रिया को फर्ज़-ए-कुर्बान (Farz-E-Qurban) कहा जाता है।

पूरे देश में इस साल 21 जुलाई को बकरीद मनाई जाएगी,इस खास मौके पर सुबह छह बजे से साढ़े दस बजे तक मस्जिदों में ईद-उल-जुहा (Eid-ul-Zuha) की विशेष नमाज अदा की जाएगी,बता दें कि पिछले साल लोगों को कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के चलते घर से ही नमाज अदा करनी पड़ी थी।

बकरीद का महत्व

रमजान की ईद के 70 दिन बाद बकरीद मनाई जाती है,बकरीद को ईद-उल-जुहाधा या ईद-उल-जुहा (Eid-ul-Juhadha or Eid-ul-Juha) भी कहा जाता है,इस दिन पूजा के बाद बकरे की बलि दी जाती है,गरीबों के बलिदान पर विशेष ध्यान दिया जाता है,ईद-उल-अधा या बकरीद (Eid-ul-Adha or Bakrid) मनाने के पीछे मुस्लिम समुदाय का मानना ​​है कि पैगंबर इब्राहिम को एक गंभीर परीक्षा का सामना करना पड़ा।

इसके लिए अल्लाह ने उसे अपने बेटे पैगंबर इश्माएल की कुर्बानी देने को कहा था,इब्राहिम तब आदेश का पालन करने के लिए तैयार हो गया,वहीं बेटे की कुर्बानी से पहले अल्लाह ने उसका हाथ रोक दिया, जिसके बाद उन्हें जानवर की कुर्बानी देने को कहा गया,इसलिए उस दिन से लोग बकरीद मनाते आ रहे हैं।

AZAD SOCH :- E-PAPER

ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਖ਼ਬਰਾਂ ਅਤੇ update ਲਈ Facebook Page Like ਅਤੇ Twitter Follow




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *