Farmers Protest पर हरियाणा के मंत्री Anil Vij का फिर विवादित बयान Farmers Protest पर हरियाणा के मंत्री Anil Vij का फिर विवादित बयान
BREAKING NEWS
Search

Live Clock Date

Your browser is not supported for the Live Clock Timer, please visit the Support Center for support.
Haryana Minister Anil Vij has once again made a controversial statement regarding the farmers 'protest, he said that the farmers' protest is no longer a movement

Farmers Protest पर हरियाणा के मंत्री Anil Vij का फिर विवादित बयान,किसान आंदोलन अब आंदोलन नहीं, इसे गदर कहें

5

AZAD SOCH:-

CHANDIGARH,(AZAD SOCH NEWS):- किसानों के विरोध प्रदर्शन को लेकर हरियाणा के मंत्री अनिल विज (Anil Vij) ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है,उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन (Farmers Protest) अब आंदोलन नहीं रहा, इसे अब गदर कहा जाए,उन्होंने कहा कि आंदोलन में लोग तलवार नहीं लाते, लोग आंदोलन में लाठी का प्रयोग नहीं करते, आंदोलन में लोग लोगों के आने-जाने का रास्ता नहीं रोकते.अनिल विज (Anil Vij) ने कहा, “इसे आंदोलन नहीं कहा जा सकता, आप इसे ग़दर कह सकते हैं (Anil Vij Calls Farmers Protest Ghadar) या कोई और शब्द इस्तेमाल कर सकते हैं।

ALSO READ:- ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਪ੍ਰਮੁਖ ਆਗੂ Balbir Singh Rajewal ਨੇ ਵੀ ਕੈਪਟਨ ਅਮਰਿੰਦਰ ਸਿੰਘ ਦੇ ਬਿਆਨ ਉਤੇ ਸਖ਼ਤ ਪ੍ਰਤੀਕਿਰਿਆ ਦਿਤੀ

” उन्होंने कहा, “आंदोलन के दौरान लोग हड़ताल पर जाते हैं, भूख हड़ताल होती है, ऐसी घटनाएं हुई हैं जहां लोगों ने भूख हड़ताल के कारण अपनी जान दी है,”इसके अलावा, हरियाणा के गृह मंत्री ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Chief Minister Capt. Amarinder Singh) किसान आंदोलन (Farmers Protest) के पीछे थे और उन्होंने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए इसे जीवित रखा था।

ALSO READ:- Markfed के उत्पाद अब हिमाचल प्रदेश के 5,000 PDS Depot में उपलब्ध होंगे

उन्होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Chief Minister Capt. Amarinder Singh) को लोकतंत्र के मुख्यमंत्री के रूप में यह नहीं कहना चाहिए था कि आपको हरियाणा और दिल्ली में जो करना है वह करना चाहिए,यह बहुत ही गलत और बहुत गैर जिम्मेदाराना है,उन्होंने आरोप लगाया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह हरियाणा और दिल्ली की शांति भंग करना चाहते हैं।

AZAD SOCH :- E-PAPER

ਹੋਰ ਵਧੇਰੇ ਖ਼ਬਰਾਂ ਅਤੇ update ਲਈ Facebook Page Like ਅਤੇ Twitter Follow




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *